कारक की परिभाषा | परिचय | भेद या प्रकार

कारक

क्रिया के साथ जिसका सीधा सम्बन्ध हो, उसे कारक कहते हैं या संज्ञा व सर्वनाम के जिस रूप से उसका क्रिया अथवा दूसरे शब्द के साथ सम्बन्ध स्थापित होता हो, उसे कारक कहते हैं।

कारक के प्रकार:-

कारक आठ प्रकार के होते हैं कर्ता, कर्म, करण, सम्प्रदान, अपादान, सम्बन्ध, अधिकरण, सम्बोधन।

  • कर्ता – संज्ञा के जिस रूप से क्रिया करने वाले का बोध हो, उसे कर्ता कारक कहते हैं; जैसे-बालक ने पत्र पढ़ा।
  • कर्म – क्रिया का प्रभाव या फल जिस संज्ञा/सर्वनाम पर पड़ता है, उसे कर्म कारक कहते हैं; जैसे-माँ बच्चे को खाना खिला रही थी।
  • करण – संज्ञा या सर्वनाम जिसकी सहायता से क्रिया सम्पन्न होती है उसे करण कारक कहते हैं; जैसे—उसने पेन्सिल से चित्र बनाया।
  • सम्प्रदान – जिसके लिए क्रिया की जाती है, उसे सम्प्रदान कारक कहते हैं; जैसे-बाबू ने भिखारी को दस रुपये दिए।
  • अपादान – संज्ञा या सर्वनाम के जिस रूप से अलग होने का भाव प्रकट हो, उसे अपादान कारक कहते हैं; जैसे-वह कल ही दिल्ली से लौटा है।
  • सम्बन्ध – एक संज्ञा या सर्वनाम का दूसरी संज्ञा या सर्वनाम से सम्बन्ध बताने वाले शब्द को सम्बन्ध कारक कहते हैं; जैसे–मोहन के भाई को भेज दो।
  • अधिकरण – क्रिया होने के स्थान और काल को बताने वाला कारक अधिकरण कारक कहलाता है; जैसे-सिंह वन में रहता है।
  • सम्बोधन – संज्ञा के जिस रूप में किसी को पुकारा, बुलाया, सुनाया या सावधान किया जाए, उसे सम्बोधन कारक कहते हैं; जैसे-अरे भाई! तुम अब तक कहाँ थे?

कारकविभक्तियाँ
कर्ता (प्रथमा)ने
कर्म (द्वितीया)को
करण (तृतीया)से
सम्प्रदान (चतुर्थी)को, के लिए, वास्ते
अपादान (पंचमी)से
सम्बन्ध (षष्ठी)का, के, की (रा, रे, री)
अधिकरण (सप्तमी)में, पै, पर
सम्बोधनहे! अरे! अजी!

Teaching

50+ Important Reasoning Questions and Answers in HindiClick Here

Exams


Subjects